top of page
  • लेखक की तस्वीरuma rawat

क्या आप जानते है लाखो करोडो लोगो की पहली पसंद क्यों होता है भारतीय अचार ?

हम भारतीय लोग खाने के शौक़ीन माने जाते हैं। भौगोलिक स्थितियों के कारण हर जगह का खाना ही अलग होता है। लेकिन, भारतीय व्यंजन मसालों, तेल और घी के उपयोग के कारण दुनिया में सबसे अलग होते हैं। इसके अलावा भारतीय मसाले पूरी दुनिया में प्रसिद्ध हैं। तीखा, मीठा, मसालेदार खाना हमारे भोजन का मुख्य हिस्सा है। एक और चीज है, जिसके बिना हमारा भोजन पूरा नहीं होता और वो है अचार और चटनी । हमारे चैनल और वेबसाइट पर आपको बहुत सारे अचार की वेराइटी मिलेगी।




अचार का नाम सुनते ही सबके मुंह में पानी आ जाता है। खासतौर पर खट्टा-मीठा और तीखा घर का बना आम, हरी मिर्च लहसुन का अचार। जब आपके पास घर पर सब्जी बनाने का समय न हो या खाने के लिए कुछ न हो तो रोटी , पराठा, पूड़ी या ब्रेड पर थोड़ा सा अचार रखें और आपका खाना हो गया पूरा। हर घर में मां, नानी या दादी के हाथ का अचार बना हुआ अवश्य मिल जाएगा। लेकिन, अचार को हमेशा अन्य खाद्य पदार्थों से कम आंका जाता है। आज हम आपको कुछ ऐसे कारण बताने जा रहे हैं कि क्यों आपको एक टुकड़ा अचार का महत्व कम नहीं आंकना चाहिए।



अचार खाने के फायदे (Benefits of Pickle)

अचार न केवल किसी बेस्वाद खाने को स्वादिष्ट बनाता है बल्कि इसके बहुत सारे स्वास्थ्य लाभ भी है। अचार के ऐसे ही फायदे हैं:

  • वजन कम (Weight loss) के लिए अगर आप काफी सारे उपाय अपना कर थक चुके हैं, तो आपको एक बार अचार को भी अपना लेना चाहिए। हां हो सकता है कि आपको यह जानकर थोड़ी हैरत हो कि अचार वजन कम (Weight lose) करने में मदद कर सकता है। लेकिन यह सच है। दरअसल, अचार में बहुत से मसाले होते हैं, जो आपकी डाइट में मौजूद फैट को तोड़ने में मदद करते हैं।

  • आपको पता होगा कि प्रेग्नेंसी (Pregnancy) के दौरान भी महिलाओं को अचार खाने का मन करता है। ऐसे में आम और नींबू का अचार खाने से महिलाओं को कमजोरी महसूस नहीं होती है।



  • अचार में काफी मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट (Anti oxident) पाए जाते हैं। साथ ही एंटी-ऑक्सीडेंट्स के फायदे किसी से छिपे हुए नहीं हैं। ये आपकी स्किन से लेकर लेकर आपके बालों के लिए भी फायदेमंद हो सकते हैं। लेकिन, साथ ही इस बात का ख्याल रखना जरूरी होता है कि आप एक निर्धारित मात्रा में ही अचार का सेवन करें, तो ही यह आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।

  • अचार के सेवन को लेकर किए गए शोध में सामने आया कि यह डायबिटीज की स्थिति में लाभकारी हो सकता है। इसके अलावा आंवले का अचार डायबिटीज से जूझ रहे लोग खा सकते हैं।

  • अचार आपकी पाचन क्रिया को सुचारू रखने में भी मदद कर सकता है। इसमें मौजूद फाइबर्स इसमें आपकी मदद करते हैं।


आखिर क्यों इतने ज्यादा पॉपुलर है भारतीय अचार

अचार कितने प्रकार के होते हैं यह बात तो शायद ही कोई बता पायेगा । हमारे घरों में तो हर सब्जी का अचार डाल दिया जाता है। शाकाहारी के साथ-साथ मांसाहारी अचार भी आपको मिल जाएंगे। अगर आप सीफूड के दीवाने हैं, तो आपको प्रॉन्स का बना अचार भी आसानी से मिल जाएगा। मेवों से बने अचार की तो बात ही निराली है। यही नहीं, सब्जियों से बने अचार में विटामिन और मिनरल होते हैं, इसलिए यह आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक नहीं हैं.


अगर आपके घर में स्वादिष्ट अचार है, तो आप कभी भी भूखे नहीं रह सकते। इसे आप रोटी, परांठे, ब्रेड, मठरी, पूड़ी यानी हर एक चीज के साथ खा कर अपनी भूख को शांत कर सकते हैं। इसका स्वाद हर चीज को स्वादिष्ट बना देता है।

भाँति - भाँति प्रकार के स्वादिष्ट अचार होते है । जैसे दक्षिण भारत में लहसुन के अचार को प्राथमिकता दी जाती है। वहीं,पूर्वी भारत में आम का अचार काफी फेमस है , मिर्ची का स्पाइसी अचार खा कर आपकी आंख में आंसू न आ जाएं, ऐसा हो ही नहीं सकता। कोई अलग-सा स्वाद चाहिए, तो गाजर और मूली का कच्चा अचार सबसे बेहतरीन है।आमले का अचार स्वादिष्ट होने के साथ ही सेहतमंद भी होता है। जैसा चाहे वैसा अचार आप बना सकते हैं या आपको बाजार में मिल जाएगा।




अचार का सबसे अच्छा भाग है, वो सुंदर बर्तन, जिनमें इसे रखा जाता है। यह अचार का महत्व भी बढ़ा देता है। वो बड़ी-बड़ी बरनिया और मर्तबान हमारे जेहन में घर कर जाती है और जिंदगी भर के लिए हमारी यादों का हिस्सा बन जाती हैं, जो हमारे नानी या दादी के घर में होती थी। हालांकि, आजकल यह बर्तन घर में कम देखने को मिलते हैं। मिट्टी से बने यह बर्तन ऐसे होते हैं, जिनमें पिकल्स लंबे समय तक फ्रेश और स्वादिष्ट रहता है।

अचार की एक और खास बात है उसका रंग। यह हर रंग में उपलब्ध होता हैं। यही नहीं, रंग से आप उनके स्वाद को जज नहीं कर सकते। लाल रंग का आम का अचार भी उतना ही स्वादिष्ट होता है, जितना शलजम का सफेद रंग का।

आपने एक बात नोटिस की होगी कि घर के बने अचार का स्वाद बाजार में मिलने वाले अचार से बिल्कुल अलग होता है। उसमे अंतर होता है प्यार और भावनाओं का। घर का बना पिकल्स केवल पिकल्स नहीं बल्कि उसका प्यार और भावनाएं होती हैं, जिसने उसे बनाया है। इसलिए, पिकल्स का महत्व कभी भी कम नहीं आंकना चाहिए।

मुझे उम्मीद हैं कि आपको अचार (Pickels) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल या फेसबुक पेज foodzlife पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।








3 दृश्य0 टिप्पणी

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें

Comments

Rated 0 out of 5 stars.
No ratings yet

Add a rating

pickle

20190608_155207.jpg
खम्मन ढोकला | Khaman Dhokla recipe in hindi | Gujrati dish

खम्मन ढोकला गुजरात की एक फेमस डिश है यह खाने क्रिस्प और सॉफ्ट है आप यह रेसिपी किसी भी ख़ास मौके पर बना सकते है 

bottom of page