top of page
  • लेखक की तस्वीरuma rawat

हरी मिर्च का अचार एक नई विधि से मिर्च का तीखापन भी कम करे और स्वाद होगा डबल 😋 | Green Chilli Pickle

अपडेट करने की तारीख: 11 मार्च


Green Chilli Pickle
Green Chilli Pickle










लगभग सभी भारतीय व्यंजन में मिर्च का अपना अलग महत्वपूर्ण स्थान है , मिर्च 2 प्रकार की होती है हरी मिर्च और लाल मिर्च । हरी मिर्च खाने के फायदे भी बहुत है - हरी मिर्च में विटामिन सी होता है जो त्वचा में कोलेजन संश्लेषण को बढ़ाने में मदद करता है। यह चमकदार, स्वस्थ त्वचा के लिए महत्वपूर्ण है। इसके अलावा, इसमें विटामिन ए भी मौजूद होता है जो उम्र बढ़ने वाली त्वचा के संकेतों को दूर करने में मदद करता है साथ ही, इसमें फाइटोन्यूट्रिएंट्स होते है जिनके एंटी-माइक्रोबियल गुण मुंहासों और काले धब्बों को कम करते हैं। हरी मिर्च दिल को स्वस्थ रखने में भी फायदेमंद होती है । अगर आप वजन कम करना चाहते हैं तो आपको अपने रोजाना के खाने में हरी मिर्च को जरूर शामिल करना चाहिए।

हरी मिर्च का अचार भारत में एक बहुत प्रसिद्ध रेसिपी है, हम भारत के लोग हर समय लंच, डिनर या ब्रेकफास्ट में अचार खाना पसंद करते हैं, हरी मिर्च का अचार आप घर पर बहुत कम समय में बहुत ही आसानी से बना सकते है।





आवश्यक सामग्री - Ingredients for Green Chilli Pickle

  • हरी मिर्च (ग्रीन चिल्ली) - 500 Gram

  • सौंफ - ½ cup

  • सरंसो (Mustard seeds)- ½ cup

  • सरसो का तेल (Mustard oil) - 1 cup

  • 3 बड़े नींबू का रस (large lemon juice)

  • 3 बड़े चम्मच नमक ( tbsp salt)

  • 1 tbsp black salt (काला नमक )

  • 1 tsp kalonji (कलोंजी )

  • 1 tbsp methi dana (मेथी दाना )

  • ½ tsp heeng (हींग )

  • 2 tbsp dry mango powder (अमचूर पाउडर )

  • 2.5 tbsp kashmiri lal mirh (काश्मीरी लालमिर्च )

  • 1 tsp haldi powder (हल्दी पाउडर )



हरी मिर्च का अचार बनाने की विधि

1. हरी मिर्च का अचार बनाने के लिए सबसे पहले हम मिर्च को पानी से धोकर साफ़ कर लेंगे और मिर्च को सुखाकर मिर्च के डंठल हटा देंगे | हरी मिर्च का अचार ज्यादा तीखा न बने इसके लिए हमने २ तरह की मिर्च ली है एक तीखी और दूसरी कम तीखी | मिर्च की पहचान करना आसान है जिस मिर्च में बीज कम होते है वो कम तीखी होती है और जिस मिर्च में बीज ज्यादा होते है वो ज्यादा तीखी होती है इसका चयन आप अपने स्वाद के अनुसार कर सकते है |



2. मिर्च को अपने मनपसंद आकार में काट ले , आप इसे लम्बाई में काटकर २ टुकड़े कर या छोटे - छोटे गोल टुकड़े कर सकते है |

3. मिर्च को काटकर बाउल में शिफ्ट कर ले ३ बड़े चम्मच नमक , ३ बड़े नीम्बू का रस , १ छोटा चम्मच कलोंजी और १ बड़ा चम्मच मेथीदाना मिलाकर कम से कम १ घंटे के लिए मेरिनेट करेंगे |

4. मसालों में नमी होती है जो अचार को ख़राब कर सकती है इसके लिए हम सौंफ और सरसो को हल्का भून लेंगे



5. सभी मसालों को दरदरा पीस ले , बारीक नहीं पीसना है |

6. मेरिनेट किये हुए मिर्च में सभी मसाले अच्छे से मिला दे |

7. सरसो का तेल गरम करके ठंडा कर ले और उसे अचार में मिला दे |

हरी मिर्च का अचार बनकर तैयार है , लम्बे समय तक इस्तेमाल के लिए आप इसे किसी साफ और सूखे जार में भरकर रख ले | अगर मेरी विधि से आप अचार बनाएंगे तो ये खाने में तो स्वादिष्ट होगा ही लम्बे समय तक ख़राब भी नहीं होगा | ये अचार दाल - चावल , रोटी,पूरी , पराठा के साथ बहुत ही स्वादिष्ट लगता है |

आप इस रेसिपी का वीडियो हमारे youtube चैनल foodzlife पर देख सकते है -








हरी मिर्च का अचार बनाने में ध्यान देने योग्य बाते -

  1. अचार बनाने के लिए अच्छी किस्म की हरी मिर्च का चयन करे , जो मिर्च गहरे रंग है और बीज ज्यादा होते है वो ज्यादा तीखी होती है और जिस मिर्च का रंग कम है और बीज कम होते है वो कम तीखी होती है |

  2. हरी मिर्च को धोने के बाद अच्छी तरह सुखाएं , मिर्च में पानी नहीं होना चाहिए नहीं तो अचार ख़राब हो जायेगा |

  3. मिर्च को काटते समय , धोते समय या अचार बनाते समय हांथो में ग्लब्स जरूर पहने नहीं तो हांथो में जलन हो सकती है , अगर मिर्च की वजह से जलन हो रही है तो तो तुरंत देसी घी लगा ले , जलन कम हो जाएगी |

  4. अगर संभव हो तो अचार डालने के बाद २ से ३ दिन की धुप जरूर दिखाए | अचार को रोजाना दिन में २ बार सूखे और साफ़ चम्मच से चलाकर मिलते रहे |

  5. अगर आप अचार को अधिक समय तक रखना चाहते है तो अचार को तेल में डुबाकर रखे इससे अचार सालों तक ख़राब नहीं होगा।





हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें

Comentarios

Obtuvo 0 de 5 estrellas.
Aún no hay calificaciones

Agrega una calificación

pickle

20190608_155207.jpg
खम्मन ढोकला | Khaman Dhokla recipe in hindi | Gujrati dish

खम्मन ढोकला गुजरात की एक फेमस डिश है यह खाने क्रिस्प और सॉफ्ट है आप यह रेसिपी किसी भी ख़ास मौके पर बना सकते है 

bottom of page