• Uma Rawat

राई की चटनी बिहारी स्टाइल|Sarson ki Chatni|Mustard Chutney Recipe|स्वादिष्ट और सेहतमंद सरसों की चटनी

अपडेट करने की तारीख: 18 जन॰



सरसों के बारे में शायद ही कोई ऐसा होगा जो नहीं जानता होगा .सरसों क्रूसिफेरा या ब्रैसिकेसी (Cruciferae or Brassicaceae) परिवार का एक पौधा है, जोआकार में लगभग 1 से लेकर 3 फुट तक लंबा हो सकता है. सरसों का साग और मक्के की रोटी तो सभी का पसंदीदा व्यंजन होता है . सरसों के सभी भाग चाहे वो सरसों के पत्ते हो , फूल हो या बीज किसी न किसी रूप में खाने में उपयोग में आते है . स्वादिष्ट होने के साथ ही सेहतमंद भी होते है . सरसों मुख्य रूप से तीन प्रकार की होती है - काली सरसों , पीली सरसों और भूरी सरसों . इसके अलावा सरसों से ही मिलती - जुलती राई होती है .राई के दाने सरसों के दाने से आकार में छोटे होते है . गुणों की बात करें, तो दोनों में ही लगभग एक समान गुण और पोषक तत्व पाए जाते हैं।साथ ही अंग्रेजी में दोनों को मस्टर्ड (mustard) कहा जाताहै। सरसों हमारी सेहत के लिए कई प्रकार से फायदेमंद हो सकती है।सरसों का हर हिस्सा सेहत के लिए फायदेमंद हो सकता है।इसमें कैरोटीनॉयड, फेनोलिक कंपाउंड्स और ग्लूकोसिनोलेट्स जैसे कई प्रकार के फाइटोकेमिकल्स पाए जाते हैं।इन फाइटोकेमिकल्स की मदद से कैंसर, मधुमेह और हृदय रोग जैसी बीमारियों से बचना आसान होता है. आज मै आपके साथ राई की एक बहुत ही स्वादिष्ट और सेहतमंद चटनी की रेसिपी शेयर करुँगी .











आवश्यक सामग्री :-

  • एक चौथाई कप काली या पीली सरसों के दाने

  • एक नींबू का रस या दही

  • एक चम्मच नमक

  • एक चम्मच चीनी

  • दस हरी मिर्च

  • आधा चम्मच हल्दी पाउडर

  • एक से दो चम्मच सरसों का तेल

  • लहसुन की एक घंटी

  • पानी आवश्यकतानुसार



बनाने की विधि :-


  1. राई की चटनी बनाने के लिए हमने यहां पर ब्लैक मस्टर्ड सीड्स यानि कि काली वाली राई ले ली है एक चौथाई कप, आप यहां पर येलो मस्टर्ड सीड्स के साथ भी ये चटनी बना सकते हैं या फिर दोनों मिक्स करके.



2. अब जो कि राई में तीखा और पंजेंट फ्लेवर होता है इसे निकालने के लिए या फिर थोड़ा कम करने के लिए इसे soak करेंगे ओवरनाइट अगर आपके पास इतना टाइम नहीं है कि आप इसे रात भर के लिए soakकर सके तो उसे कम से कम आधा घंटा या फिर 1 से 2 घंटे जरूर soak कीजियेगा .





3. 1 से 2 घंटे बीत जाने के बाद राई फूल चुकी है अच्छे से इसका जो तीखा फ्लेवर होता है वह पानी के अंदर आ जाता है अब हम इसे वाश कर लेंगे अच्छे से उसके बाद हम इसके नेक्स्ट प्रोसेस की तरफ इसको ले सकते हैं.